Aarti : Shri Sita Mata

( Shri Sita Mata )

आरती श्री जनक दुलारी की।
सीता जी रघुवर प्यारी की॥

जगत जननी जग की विस्तारिणी,
नित्य सत्य साकेत विहारिणी,
परम दयामयी दिनोधारिणी,
सीता मैया भक्तन हितकारी की॥

आरती श्री जनक दुलारी की।
सीता जी रघुवर प्यारी की॥

सती श्रोमणि पति हित कारिणी,
पति सेवा वित्त वन वन चारिणी,
पति हित पति वियोग स्वीकारिणी,
त्याग धर्म मूर्ति धरी की॥

आरती श्री जनक दुलारी की।
सीता जी रघुवर प्यारी की॥

विमल कीर्ति सब लोकन छाई,
नाम लेत पवन मति आई,
सुमीरात काटत कष्ट दुख दाई,
शरणागत जन भय हरी की॥

आरती श्री जनक दुलारी की।
सीता जी रघुवर प्यारी की॥

Video of Shri Sita Mata Aarti :-

अन्य आरती सुने

You May Like :-

Om Jai Mahaveer Prabhu : Aarti
Ramayan Ji ki : Aarti
Shri Surya Dev Jai Kashyapa Nandana : Aarti
Shri Surya Dev Om Jai Surya Bhagwaan : Aarti
Balaji Ki : Aarti
Shri Surya Dev Jai Jai Ravidev : Aarti
Shri Jankinatha Ji Ki : Aarti

Check Also

Shri Jankinatha Ji Ki

Aarti : Shri Jankinatha Ji Ki

( Shri Jankinatha Ji Ki ) ॐ जय जानकीनाथा,जय श्री रघुनाथा ।दोउ कर जोरें बिनवौं,प्रभु! …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *