Aarti

Aarti : Shri Badrinath

Shri Badrinath

( Shri Badrinath ) पवन मंद सुगंध शीतल,हेम मंदिर शोभितम् ।निकट गंगा बहत निर्मल,श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥ शेष सुमिरन करत निशदिन,धरत ध्यान महेश्वरम् ।वेद ब्रह्मा करत स्तुति,श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम् ॥॥ पवन मंद सुगंध शीतल…॥ शक्ति गौरी गणेश शारद,नारद मुनि उच्चारणम् ।जोग ध्यान अपार लीला,श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥॥ पवन मंद सुगंध …

Read More »

Aarti : Shri Narmada Maiya

Shri Narmada Maiya

( Shri Narmada Maiya ) ॐ जय जगदानन्दी,मैया जय आनंद कन्दी ।ब्रह्मा हरिहर शंकर, रेवाशिव हर‍ि शंकर, रुद्रौ पालन्ती ॥॥ ॐ जय जगदानन्दी…॥ देवी नारद सारद तुम वरदायक,अभिनव पदण्डी ।सुर नर मुनि जन सेवत,सुर नर मुनि…शारद पदवाचन्ती ।॥ ॐ जय जगदानन्दी…॥ देवी धूमक वाहन राजत,वीणा वाद्यन्ती।झुमकत-झुमकत-झुमकत,झननन झमकत रमती राजन्ती ।॥ …

Read More »

Aarti : Gayatri Mata Ki

Gayatri Mata Ki

( Gayatri Mata Ki ) SINGER – SOLI KAPADIA, NISHA KAPADIA जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता।सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥॥ जयति जय गायत्री माता…॥ आदि शक्ति तुम अलख निरंजन जगपालक क‌र्त्री।दु:ख शोक, भय, क्लेश कलश दारिद्र दैन्य हत्री॥॥ जयति जय गायत्री माता…॥ ब्रह्म रूपिणी, …

Read More »

Aarti : Shri Bhagwat Geeta

Shri Bhagwat Geeta

( Shri Bhagwat Geeta ) जय भगवद् गीते,जय भगवद् गीते ।हरि-हिय-कमल-विहारिणि,सुन्दर सुपुनीते ॥ कर्म-सुमर्म-प्रकाशिनि,कामासक्तिहरा ।तत्त्वज्ञान-विकाशिनि,विद्या ब्रह्म परा ॥॥ जय भगवद् गीते…॥ निश्चल-भक्ति-विधायिनि,निर्मल मलहारी ।शरण-सहस्य-प्रदायिनि,सब विधि सुखकारी ॥॥ जय भगवद् गीते…॥ राग-द्वेष-विदारिणि,कारिणि मोद सदा ।भव-भय-हारिणि,तारिणि परमानन्दप्रदा ॥॥ जय भगवद् गीते…॥ आसुर-भाव-विनाशिनि,नाशिनि तम रजनी ।दैवी सद् गुणदायिनि,हरि-रसिका सजनी ॥॥ जय भगवद् गीते…॥ …

Read More »

Aarti: Vaishno Mata

Vaishno Mata

( Vaishno Mata ) जय वैष्णवी माता, मैया जय वैष्णवी माता ।हाथ जोड़ तेरे आगे, आरती मैं गाता ॥॥ जय वैष्णवी माता…॥ शीश पे छत्र विराजे, मूरतिया प्यारी ।गंगा बहती चरनन, ज्योति जगे न्यारी ॥॥ जय वैष्णवी माता…॥ ब्रह्मा वेद पढ़े नित द्वारे, शंकर ध्यान धरे ।सेवक चंवर डुलावत, नारद …

Read More »

Aarti : Shri Sita Mata

Shri Sita Mata

( Shri Sita Mata ) आरती श्री जनक दुलारी की।सीता जी रघुवर प्यारी की॥ जगत जननी जग की विस्तारिणी,नित्य सत्य साकेत विहारिणी,परम दयामयी दिनोधारिणी,सीता मैया भक्तन हितकारी की॥ आरती श्री जनक दुलारी की।सीता जी रघुवर प्यारी की॥ सती श्रोमणि पति हित कारिणी,पति सेवा वित्त वन वन चारिणी,पति हित पति वियोग …

Read More »

Aarti : Shri Mahaveer Bhagwan 3 Jai Sanmati Deva

Shri Mahaveer Bhagwan

( Shri Mahaveer Bhagwan ) SINGER – ANJALI JAIN जय सन्मति देवा,प्रभु जय सन्मति देवा।वर्द्धमान महावीर वीर अति,जय संकट छेवा ॥॥ऊँ जय सन्मति देवा…॥सिद्धार्थ नृप नन्द दुलारे,त्रिशला के जाये ।कुण्डलपुर अवतार लिया,प्रभु सुर नर हर्षाये ॥॥ऊँ जय सन्मति देवा…॥देव इन्द्र जन्माभिषेक कर,उर प्रमोद भरिया ।रुप आपका लख नहिं पाये,सहस आंख …

Read More »

Aarti : Shri Jankinatha Ji Ki

Shri Jankinatha Ji Ki

( Shri Jankinatha Ji Ki ) ॐ जय जानकीनाथा,जय श्री रघुनाथा ।दोउ कर जोरें बिनवौं,प्रभु! सुनिये बाता ॥ ॐ जय..॥ तुम रघुनाथ हमारे,प्राण पिता माता ।तुम ही सज्जन-संगी,भक्ति मुक्ति दाता ॥ ॐ जय..॥ लख चौरासी काटो,मेटो यम त्रासा ।निशदिन प्रभु मोहि रखिये,अपने ही पासा ॥ ॐ जय..॥ राम भरत लछिमन,सँग …

Read More »

Aarti : Shri Surya Dev – Jai Jai Ravidev

Surya Dev Jai Ravidev

( Surya Dev Jai Ravidev ) जय जय जय रविदेव,जय जय जय रविदेव ।रजनीपति मदहारी,शतलद जीवन दाता ॥ पटपद मन मदुकारी,हे दिनमण दाता ।जग के हे रविदेव,जय जय जय स्वदेव ॥ नभ मंडल के वाणी,ज्योति प्रकाशक देवा ।निजजन हित सुखराशी,तेरी हम सब सेवा ॥ करते हैं रविदेव,जय जय जय रविदेव …

Read More »

Aarti : Shri Balaji Ki

Shri Balaji Ki

( Shri Balaji Ki ) श्री हनुमान जन्मोत्सव, मंगलवार व्रत, शनिवार पूजा, बूढ़े मंगलवार और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाली आरती है ॐ जय हनुमत वीरा, स्वामी जय हनुमत वीरा।संकट मोचन स्वामी, तुम हो रनधीरा ॥ॐ जय॥ पवन पुत्र अंजनी सूत, महिमा अति भारी।दुःख दरिद्र …

Read More »