मौनी अमावस्या – Mauni Amavasya

आने वाले त्यौहार: (24 January 2020) ( Mauni Amavasya )

मौनी शब्द मौन से उत्पन्न हुआ है यानी इस दिन मौन रहकर व्रत करना चाहिए। मौनी अमावस्या के दिन मौन व्रत धारण कर मन को संयमित करके काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि से दूर रखना चाहिए।

मान्यताओं के अनुसार इस दिन पवित्र संगम में देवताओं का निवास होता है इसलिए इस दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है।

प्रयागराज कुंभ मेले के दौरान, मौनी अमावस्या सबसे महत्वपूर्ण स्नान दिवस में से एक है, और इसे अमृत योग के दिन और कुंभ पर्व के दिन के रूप में जाना जाता है।

मान्यता है कि इसी दिन जैन संप्रदाय के प्रथम तीर्थंकार ऋषभ देव ने अपनी लंबी तपस्या का मौन व्रत तोड़ा था और संगम के पवित्र जल में स्नान किया था।

सोमवती व मौनी अमावस्या पर 4 फरबरी 2019 का दुर्लभ योग 71 वर्ष बाद कुंभ के दौरान बन रहा है। इससे पहिले यह योग नौ फरवरी 1948 को था। ऐसी मान्यता है, कि इस योग में गंगा स्नान, दान पुण्य करना चाहिए। ( Mauni Amavasya )

संबंधित अन्य नाम – माघी अमावस्या

संबंधित जानकारियाँ:-

भविष्य के त्यौहार :- 11 February 2021
1 February 2022
21 January 2023
9 February 2024

आवृत्ति :- वार्षिक

समय :- 1 दिन

सुरुआत तिथि :- माघ कृष्णा अमावस्या

समाप्ति तिथि :- माघ कृष्णा अमावस्या

महीना :- जनवरी / फरवरी

कारण :- To Porify Our Maan

उत्सव विधि :- Silence Fast, Ganga Shnan, River
Bath, Daan, Donations, Bhajan, Kirtan.

महत्वपूर्ण जगह :- Kumbh, Prayagrag, Ganga Ghat,
Rivers.

पिछले त्यौहार:- 4 February 2019


अन्य त्योहार के बारे में जाने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *